सिंगर अभिलिप्सा पांडा, जिनका ‘हर हर शंभू’ गाकर फरमानी नाज ने बटोरीं खूब सुर्खियां

 

सिंगर फरमानी नाज शिव भजन ‘हर हर शंभू’ गाकर विवादों से घिर गई हैं। दरअसल उलेमाओं ने फरमानी नाज के मुस्लिम होकर ये भजन गाने पर नाराजगी जताई है और साथ ही कहा है कि ये इस्लाम के खिलाफ है। लेकिन हम आपको बता दें कि इस गाने को ओरिजिनली फरमानी नाज ने नहीं, बल्कि उड़ीसा की रहने वाली सिंगर अभिलिप्सा ने दो महीने पहले गाया था।

अभिलिप्सा पांडा ने एक खास बातचीत के दौरान ये बताया था कि उन्हें संगीत विरासत में मिली है। अभिलिप्सा ने बताया कि वह मात्र जब 4 साल की थीं, तबसे वह संगीत सीख रही हैं। उन्होंने साल 2015 में एक इंस्टीट्यूट से भारतीय शास्त्र संगीत सीखा है। इसके अलावा कई सालों तक अभिलिप्सा ने ओडिसी क्लासिकल संगीत भी सीखा था। हालांकि किन्हीं निजी कारणों के चलते उन्होंने इसे बीच में ही छोड़ दिया। लेकिन अभिलिप्सा पांडा की मानें तो उनके माता पिता और दादा दादी सब कला से जुड़े हुए हैं। उनके दादा ओडिशा के फेमस कथाकार रह चुके हैं।

हर हर शंभु फेम अभिलिप्सा पांडा 8 अलग अलग भाषाओं में गाना गाती हैं। अभिलिप्सा पांडा ने बताया कि म्यूजिक उनकी जिंदगी में बहुत ही महत्वपूर्ण है और वह जब छोटी थी तो उनकी नानी उन्हें मंत्र सिखाया करती थी, धीरे-धीरे उन्होंने जब मंत्रो को एक सुर में गाया तो उनके परिवार को उनकी कला की पहचान हुई और वहीं से अभिलिप्सा पांडा की सिंगिंग जर्नी की शुरुआत हुई। अभिलिप्सा ने बताया कि जिन बातों को वह कहकर लोगों को नहीं समझा पाती उन्हें वह अपने गानों और म्यूजिक के जरिए लोगों तक पहुंचाती है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.